निर्माणाधीन हास्टल का ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने किया निरिक्षण,कार्य कराया बंद,घटिया निर्माण की शिकायत पहुंचे बायापुर गांव

निर्माणाधीन हास्टल का ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने किया निरिक्षण,कार्य कराया बंद,घटिया निर्माण की शिकायत पहुंचे बायापुर गांव

पौने दो करोड़ से हास्टल व एकेडमिक भवन का हो रहा निर्माण

रिपोर्ट:- रत्नेश यादव

शहाबगंज,चन्दौली(प्यारी दुनिया)। बायापुर गांव स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय के पास बन रहे हास्टल व एकेडमिक भवन के निर्माण के बुनियाद में ही भ्रष्टाचार शुरू हो गया।जिसकी शिकायत ग्रामीणों ने उच्चाधिकारियों से किया था।वहीं शिकायत को संज्ञान में लेकर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा ने सोमवार को कार्यस्थल पर पहुंच कर निरिक्षण किया।जहां बड़े पैमाने पर हुए भ्रष्टाचार को देखकर आग बबूला हो गये।कार्य स्थल पर दोयम दर्जे की ईट का प्रयोग होता मिला।नींव में भी मानक का ध्यान नहीं रखा गया था।दीवार की चुनाई में सोन बालू के जगह भस्सी का प्रयोग मिला।बाहरी स्ट्रक्चर में बीम एवं पिलर्स नहीं दिया गया था।बड़े पैमाने पर किये गये कार्य को देखकर कार्य कर रहे मजदूरों को तत्काल कार्य बंद करने का निर्देश दिया।


बायापुर गांव में कस्तूरबा को उच्चीकृत कर हास्टल और एकेडमिक भवन का निर्माण कार्य पौने दो करोड़ रुपये से प्रारंभ किया गया।कार्य कराने की जिम्मेदारी यूपी प्रोजेक्ट कार्पोरेशन लिमिटेड यूनिट 3 वाराणसी को दिया गया।लेकिन भवन के बुनियाद में ही भष्टाचार शुरू हो गया।नींव में दोयम दर्जे की ईट का प्रयोग किया जा रहा है वहीं मानक के विपरीत कार्य किया जा रहा है।घटिया निर्माण कार्य को लेकर ग्रामीणों ने शिकायत प्रर्दशन किया था।लेकिन कार्यदायी संस्था द्वारा कार्य बेरोकटोक जारी रहा।इसी सूचना के आधार पर उपजिलाधिकारी पीपी मीणा ने निरिक्षण किया।जहां बड़े पैमाने पर निर्माण समबंधी अनियमितता देखर कार्य को तत्काल बंद करा दिया।कार्यदायी संस्था के खिलाफ कार्यवाही के लिए शासन को अग्रेतर कार्यवाही को लिख।इस दौरान उन्होंने जांच प्रक्रिया पूर्ण होने तक कार्य को बंद करने को कहां इस दौरान जो भी आरोपी होगे उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जायेगा।

ख़बरें जरा हटके