Home क्राइम बंटवारे को लेकर परिवार की ही माता व बहन पीट-पीटकर भाई को...

बंटवारे को लेकर परिवार की ही माता व बहन पीट-पीटकर भाई को किया घायल

8
0

 

ब्यूरो रिपोर्ट तारा शुक्ला सोनभद्र

जमीन के विवाद में माँ बाप और जीजा ने युवक को राड से पीटा युवक हुआ अधमरा

 

 

कहते हैं पूत कपूत हो जाता है लेकिन माता कुमाता नही होती , लेकिन इस कहावत को मुगलसराय के आलूमील इलाके के एक परिवार ने झुठला दिया है। जमीन के लालच में अंधे बने माता पिता और बहनोई ने न सिर्फ एक युवक को घर से बेदखल कर दिया बल्कि उसे मार डालने में भी कोई कसर नहीं छोड़ी ।
मुगलसराय अलीनगर क्षेत्र के आलूमील इलाके में छोटू पासवान अपने परिवार के साथ रहता है। बीते दिनों परिवार में जमीन के बटवारे को लेकर विवाद हुआ तो पूरा परिवार ही छोटू के खून का प्यासा हो उठा। छोटू के माता पिता और जीजा ने मिल कर उसे पीटना शुरू कर दिया । इस बीच उसके जीजा जित्तू पासवान ने लोहे के राड से छोटू के सिर पर वार कर दिया जिससे उसे गम्भीर चोटें आई। चोटें लगते ही छोटू अचेत हो कर गिर गया । इस पर भी उन लोगों का दिल नही पसीजा। मुहल्ले के लोगों ने घायल छोटू को अस्पताल में भर्ती कराया । पैसे की दिक्कत आई तो लोगों ने चंदा लगा कर दवा की व्यवस्था की । आलम ये है कि अभी भी परिवार के लोगो ने उसे देखने तक की जहमत नही उठाई । मुहल्ले वालो ने समझाने की भी कोशिश की लेकिन उन्होंने बात करने से ही मना कर दिया । इतना ही नही छोटू का इलाज करा रहे लोगों से भी उसके घर वाले गाली गलौज कर रहे हैं । बता दे कि कुछ महिने पहले तक सबकुछ ठीक था लेकिन जमीन के विवाद ने घर के लोगो को आपस मे दुश्मन बना दिया । गाव वालो ने बताया कि 6 साल का छोटू था । अपने माता पिता के साथ वैष्णो देवी दर्शन करने गया था । जहां अपने परिवार से बिछड़ जाने के कारण वही रह गया था । अभी दो साल बाद किसी के द्वारा सूचना मिलने पर वही परिवार उसे कश्मीर से घर ले कर आए थे । जिस पर ठोल नगाड़ के साथ गाव वालो ने स्वागत भी किया था । छोटू के घर लौटने के छ महिने बाद ही परिवार मे कैसी कारण समस्या हो गयी कि परिवार वाले दुश्मन बन बैठे यह समझ से परे है ।

वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आलू मिल चौकी इंचार्ज श्रीकांत पांडे चौकी प्रभारी आलू मिल जब पहुंचे तो पीड़ित लड़के को ही अभद्र गाली गलौज दिए और गांव के जितने भी सम्मानित लोग थे उनको भी गाली देकर भगा दिए और पीड़ित लड़के से सादा पेपर पर साइन करवा लिए और चौकी प्रभारी अपने मन मुताबिक मेडिकल भी कराया जो पीड़ित लड़का है उसे गंभीर चोट लगी हैं और चौकी प्रभारी गाली गलौज जैसे धाराएं लगाकर मामले को रफा-दफा किए या प्रशासन की मिलीभगत को दर्शाता है और एक सवालिया निशान भी खड़ा करता है।
द्र््र

Previous articleविश्व हिंदू परिषद/बजरंग दल के द्वारा बीजपुर थाने में दिया गया ज्ञापन
Next articleनिराशा की तरफ जाते हुए लोगों को खींचकर बाहर निकाला सारिका व देव ने