प्राथमिक विद्यालय सोनहुल में शासन के निर्देशों की उड़ रही है धज्जियां, बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा स्पष्ट निर्देश के बावजूद अनुपस्थित हैं कई अध्यापिकाएं

प्राथमिक विद्यालय सोनहुल में शासन के निर्देशों की उड़ रही है धज्जियां, बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा स्पष्ट निर्देश के बावजूद अनुपस्थित हैं कई अध्यापिकाएं

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने मामले को लिया संज्ञान, कड़ी कार्रवाई का दिया आश्वास

 

रिपोर्ट:- राज कुमार सोनकर(जिला संवाददाता)

चकिया(प्यारी दुनिया)। क्षेत्र के ग्राम सभा सोनहुल में स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में शासन के निर्देश के बावजूद प्राथमिक विद्यालय में अध्यापक अध्यापिका ने मनमानी करने पर उतारू है समय से स्कूल आने के दिशा निर्देश के बावजूद मनमाने ढंग से अध्यापिकाओं की उपस्थिति शासन के निर्देशों की धज्जियां उड़ाता हुआ प्रतीत होता है।

 

वही गंभीर प्रकरण के संदर्भ में एक दैनिक समाचार पत्रकार  द्वारा सोनहुल प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक से पूछने पर प्रधानाध्यापक ने उपस्थिति रजिस्टर दिखाने से इनकार किया तथा पत्रकार के साथ बदसलूकी की। जबकि सच्चाई यह है कि शिक्षा विभाग द्वारा समय तय करने के बावजूद तमाम अध्यापक अध्यापिकाएं आए दिन समय से विद्यालय नहीं आती हैं। कभी कभार आती भी हैं तो मनमाने ढंग से उपस्थिति रजिस्टर पर समय अंकित कर गायब हो जाती हैं।

“9:28 पर विद्यालय में प्रवेश करती अध्यापिका”

इस संबंध में बेसिक शिक्षा अधिकारी चंदौली से वार्ता करने पर उन्होंने बताया कि शासन द्वारा विद्यालय समय से आने का दिशा निर्देश पूर्व में जारी किया जा चुका है।यदि शासन द्वारा निर्धारित दिशा निर्देशों की किसी भी अध्यापक,अध्यापिका व शिक्षण संबंधित कर्मचारी इसकी अवहेलना की जाती है तो उनके विरोध में कठोर कार्यवाही की जाएगी।इस मामले को संज्ञान में लेकर प्राथमिक विद्यालय के अनुपस्थित अध्यापिका से कारण बताओ नोटिस जारी करने का कार्य बेसिक शिक्षा अधिकारी चंदौली द्वारा किया गया है। अब देखना यह है कि शासन के निर्देशों की धज्जियां उड़ाने वाले उक्त अध्यापक अध्यापिका व शिक्षणेत्तर कर्मचारियों की मनमानी को लेकर बीएसए द्वारा दिए गए वक्तव्य पर क्या कार्यवाही होती है??

ख़बरें जरा हटके